[PDF] भए प्रगट कृपाला दीनदयाला जसुमति हितकारी PDF Download – PDFfile

भए प्रगट कृपाला दीनदयाला जसुमति हितकारी PDF download link is given at the bottom of this article. You can direct download PDF of भए प्रगट कृपाला दीनदयाला जसुमति हितकारी for free using the download button.

भए प्रगट कृपाला दीनदयाला जसुमति हितकारी PDF Summary

नमस्कार पाठकों, इस लेख के माध्यम से आप भए प्रगट कृपाला दीनदयाला जसुमति हितकारी PDF प्राप्त कर सकते हैं। यह एक अत्यधिक मधुर स्तुति है जिसके पाठ से व्यक्ति के जीवन में आने वाले विभिन्न प्रकार के व्यवधान दूर होते हैं। भए प्रगट कृपाला दीनदयाला जसुमति हितकारी के पाठ से भगवान श्री कृष्ण बहुत शीघ्र प्रसन्न होते हैं।

भए प्रगट कृपाला दीनदयाला जसुमति हितकारी का पाठ भगवान श्री कृष्ण के जन्मोत्सव के दिन किया जाता है। यदि आप भी भगवान श्री कृष्ण जी को प्रसन्न करने के लिए किसी सरल उपाय की खोज में हैं तो आपको भी इस स्तुति का पाठ करना चाहिए। इस स्तुति के पाठ से व्यक्ति को इच्छित वर की प्राप्ति होती है।

भए प्रगट कृपाला दीनदयाला जसुमति हितकारी PDF

भये प्रगट कृपाला दीन दयाला ,यशुमति के हितकारी ।

हर्षित महतारी रूप निहारी,मोहन मदन मुरारी ॥ १॥

कंसासुर जाना अति भय माना ,पुतना बेगि पठाई ।

सो मन मुसुकाई हर्षित धाई ,गई जहाँ जदुराई ॥ २॥

तेहि जाइ उठाई ह्रदय लगाई,पयोधर मुख में दीन्हें ।

तब कृष्ण कन्हाई मन मुसुकाई ,प्राण तासु हरि लीन्हें ॥ ३॥

जब इन्द्र रिसाये मेघ बुलाये ,वशीकरण ब्रज सारी ।

गौवन हितकारी मुनि मन हारी,नखपर गिरिवर धारी ॥ ४॥

कंसासुर मारे अति हंकारे,वत्सासुर संहारे ।

बक्कासुर आयो बहुत डरायो,ताकर बदन बिडारे ॥ ५॥

अति दीन जानि प्रभु चक्रपाणी,ताहि दीन निज लोका ।

ब्रह्मासुर राई अति सुख पाई ,मगन हुये गये शोका ॥ ६॥

यह छन्द अनूपा है रस रूपा,जो नर याको गावै ।

तेहि सम नहिं कोई त्रिभुवन माँहीं ,मन-वांछित फल पावै ॥ ७॥

दोहा -नन्द यशोदा तप   कियो,मोहन सो मन लाय ।

तासों हरि तिन्ह सुख दियो ,बाल भाव दिखलाय ॥

You can download भए प्रगट कृपाला दीनदयाला जसुमति हितकारी PDF by clicking on the following download button.

Leave a Comment